शुक्रवार, 30 जून 2017

कभी....... न देती

न रखते हैं दुनिया में कभी जीने की हम चाहत ,
तभी तो मौत दरवाजे मेरे दस्तक नहीं देती .
.....................................................
न खाते पेट भरने को जब खाने हम बैठें,
तभी तो रोटी थाली की कभी भी ख़त्म न होती .
..........................................................
नहीं हम जागना चाहें जो जाके बिस्तर पे लेटें ,
तभी तो नींद पलकों से जा कोसों दूर है बैठी .
............................................................
नहीं जो चाहो दुनिया में वही हर पल यहाँ मिलता ,
जो चाहा दिल ने शिद्दत से कभी मिलने नहीं देती ..............................................................
तरसती ''शालिनी'' रहती सदा मन चाहा पाने को ,
कभी ख्वाबों को ये कुदरत हकीकत होने न देती .
...............................................................
शालिनी कौशिक
(कौशल) 

कोई टिप्पणी नहीं:

न भाई ! शादी न लड्डू

  ''शादी करके फंस गया यार ,     अच्छा खासा था कुंवारा .'' भले ही इस गाने को सुनकर हंसी आये किन्तु ये पंक्तियाँ आदमी की उ...